बदलेंगे घर का वास्तु तो होगी कामनाये पूरी

, by kiran sharma

घर के लिए उपयोगी वास्तु टिप्स -

    वास्तु-शास्त्र, भारत के प्राचीन विज्ञान की वह शाखा जो जुडी है मानव के स्वास्थ्य,समृद्धि,और भाग्य से। वास्तु से ही हमें ये पता चलता है की कौन सी वस्तुए लाभ की है और कौन सी वस्तुएँ उपयोग करने से भाग्य क्षीण होता है, जैसे की  कौन सा पौधा लगाने से बरक़त बढ़ेगी और कौन सी दिशा में परिवर्तन करने से हानि हो सकती है। 
तो आइये जानते है ऐसे ही कुछ उपयोगी वास्तु टिप्स के बारे में-
    pooja,shree,yantra,images
  •  घर में पूजा-पाठ के स्थान लिए ईशान अर्थात उत्तर-पूर्व दिशा सबसे उत्तम होती है। और साथ ही पूजा घर के ऊपर या निचे कभी भी शौचालय नहीं होना चाहिए। तथा पूजा के लिए स्थापित की गई मूर्ती की विधि विधान से प्राण प्रतिष्ठा नहीं करनी चाहिए,क्योंकि इस प्रकार स्थापित की गई मूर्ती की दैनिक पूजा उस विधान से हर दिन संभव नहीं हो पाती। 
  • घर के प्रधान(मुखिया) का कमरा या तो उत्तर-पश्चिम में बना हो या  तो दक्षिण-पश्चिम दिशा में। 
  • गेस्ट-रूम को उत्तर-पूर्व दिशा में बनाना उचित रहता है। किन्तु ध्यान रखे कि इस दिशा में घर के किसी सदस्य का बेडरूम न बना हो। 
  • रसोई-घर के लिए पूर्व-दक्षिण दिशा सबसे सर्वश्रेष्ठ कही गयी है। 
  • शौचालय के लिए उचित दिशा दक्षिण-पश्चिम है। 
  • घर में बनाई गई सीढ़ियों की संख्या यदि विषम हो तो सबसे उत्तम रहता है। और सीढ़ियों के लिए पश्चिम दिशा निर्धारित की गयी है। 
    vastu,interior,pics
  • कमरे की लाइट फ़िटिंग उत्तर या पूर्व दिशा में लगवानी चाहिए। 
  • घर के प्रवेश-द्वार पर एक बड़ा सा स्वस्तिक का चिन्ह अवश्य बनाना चाहिए। 
  • अपने बेडरूम में कभी भी धर्म-आस्था से जुड़ी तस्वीरें नहीं लगनी चाहिए, और ना ही अपने घर में जानवरो की तस्वीरे कही भी लगनी चाहिए। 
  • लव-बर्ड्स के शोपीस या तस्वीर लगाने से घर के सदस्यो में प्रेम और विश्वास बढ़ता है। 
  • क्रिस्टल बॉल का सम्बन्ध स्वस्थ्य से होता है, अतः इसे भी अपने घर में टांगना अच्छा होता है। 
  • अपने घर के उत्तर-पूर्वी दिशा में पानी से भरा कलश रखने से कभी भी घर में धन की समस्या नहीं होती। 
  • घर के मुख्य ड्राइंग रूम में गुलदस्ता रखने से परिवार में कलह की स्थिति कभी नहीं बनती। 

    0 comments:

    Post a Comment