tajmahal history in hindi

, by kiran sharma

ताजमहल का इतिहास

taajmahal,pics,images

 

"ताजमहल", दुनिया के सात अजूबो में शुमार.प्रेम और कला का प्रतिक है। ताजमहल स्थित है भारत के उत्तरप्रदेश राज्य के आगरा जिले में। इतिहासिक दृष्टि से भारत के महत्वपूर्ण किलों में से एक है। आगरा शहर को बसाया गया था इब्राहिम लोदी के द्वारा 1504 ईस्वी में,और मुग़ल काल में दिल्ली के पहले आगरा ही मुगलो की राजधानी हुआ करती थी जो दिल्ली से करीब 200 कि.मी. दूर है। 
         ताजमहल को बनवाया गया था मुग़ल सम्राट अकबर के पोते सम्राट शाहजहां ने 17वीं शताब्दी में अपनी सबसे ख़ास और पसन्दीदा बेग़म मुमताज़ की याद में। पूरी तरह से संगमरमर से बना ये किला असल में किला नहीं एक मकबरा है।
tajmahal,pics,photos
ताजमहल को बन कर तैयार होने में करीब 22 साल का लंबा समय लग गया,और इसे 20000 कारीगरों ने मिलकर बनाया था, और जनश्रुति तो ये भी है कि इसे बनवाने के बाद सम्राट ने कारीगरों के हाथ कटवा दिए,ताकि ऐसा नायब नमूना फिर कभी न बने। लेकिन ऐसा नहीं है, ताजमहल के बन जाने के बाद खुश होकर सम्राट ने कारीगरों को इतना धन और सुविधाए दी कि उनकी आने वाली सात पीढ़ियों को भी कोई काम नहीं करना पड़े। ताजमहल का मुख्य गुम्बद करीब 60 फ़ीट ऊँचा और 80 फ़ीट चौड़ा है। 

                ताजमहल पर की गई नक्काशी और इसकी अनूठी बनावट सचमुच किसी आश्चर्य से कम नहीं। 
किले के किनारे ही बहती है यमुना नदी,जो भारत की दूसरी सबसे पवित्रतम नदी कही जाती है। पूर्णिमा की रात्रि को दूधिया रौशनी में इसकी ख़ूबसूरती की छटा की तो जितनी ही तारीफ़ की जाये कम ही लगती है।

        इसकी ख़ूबसूरती को निहारने हर दिन यहाँ देश और विदेश से हजारो पर्यटक आते है। यहाँ और भी कई देखने लायक चीजे है जैसे कि- जामा मस्जिद, रामबाग़,महताब बाग,रेड फोर्ट। 
      रेडफ़ोर्ट,इसे आगरा फोर्ट के नाम से जानते है,और ये आगरा के महत्वपूर्ण स्थलों में से एक है। जिसका निर्माण सम्राट अकबर ने 1566 में करवाया था। पूर्णतः लाल पत्थरो से निर्मित, स्थापत्य का एक बेजोड़ नमूना। 
इसी किले के अंदर बना है- दीवान-ए-ख़ास जिसे  शीश महल के नाम से भी जाना जाता है। 
      ताजमहल के उत्तरी हिस्से में 2 किलोमीटर क्षेत्र में फैला है-रामबाग़, जिसे बनवाया था मुग़ल साम्राज्य के स्थापक बाबर ने,1528 में। 
     ज़ामा मस्जिद बनाई गई थी शाहजहाँ की बेटी जहाँआरा की याद में। 1649 ईस्वी में बनी इस ईमारत की नक्काशी और गुम्बद बेमिसाल है। 
                भारतीय पर्यटन विभाग की और से प्रतिवर्ष आगरा में "ताज-महोत्सव" का आयोजन किया जाता है,और उस दिन ताजमहल की आकर्षक विधुत सज्जा की जाती है,और भी कई तरह के कार्यक्रम किये जाते है। 

              

0 comments:

Post a Comment