रत्न और गृह ज्योतिष एवं नक्षत्र शास्त्र

, by kiran sharma

vastu,shastra,images,maps


रत्न और गृह ज्योतिष एवं नक्षत्र शास्त्र 

जिस प्रकार हमारे जीवन में घर,गाडी और पैसा बहुत महत्त्व रखते है ठीक उसी प्रकार से गृह और नक्षत्रो का भी उतना ही महत्त्व है. यही मुख्य किरदार निभाते हमारे भाग्य को बनाने और बिगड़ने में. इन नक्षत्र रत्नों को धारण करने से हम अपने भाग्य में आ रही बाधाओ से मुक्त हो सकते है. हमारी राशि और लग्न में समस्त गुण-दोष समाये हुए है और किसी भी व्यक्ति की आयु,स्वास्थ्य और धन से इनका गहरा नाता होता है.
      यदि अपनी राशि अनुसार धारण न करके विपरीत रत्न धारण किया जाए तो ये कष्टो को बढ़ा भी देते है. अतः ये जान लेना आवश्यक है की जो रत्न आप धारण करने जा रहे है वो आपके लिए कल्यणकारी है या कष्टकारी।
ratna,images,photos,picsतो आइये जानते है 12 राशियों और उनसे सम्बन्धित रत्नों के बारे में -
कुल रत्न= 09 ( माणिक्य,मोती,मूँगा,पन्ना,पुख़राज,हीरा,नीलम,राहु एवं केतु)
कुल राशियाँ= 12 ( मेष,वृष,मिथुन,कर्क,सिंह,कन्या,तुला,वृश्चिक,धनु,मकर,कुंभ,मीन)

     माणिक्य रत्न का प्रभाव -
                                         
मेष राशि- इस राशि के जातकों के लिए ये रत्न सबसे उत्तम है,विशेषकर सूर्य की महादशा होने पर ये रत्न अपने  संपूर्ण फलदायक स्वरूप में होता है।
वृष राशि- इस राशि के जातक के लिए सर्वथा वर्जित रत्न है,सूर्य की महादशा होने पर विपरीत और कष्टकारी    परिणाम देने वाला है।
मिथुन- मिथुन राशि वालो को ये रत्न केवल एक निर्धारित समय में और निर्धारित समय तक ( सूर्य महादशा) तक ही धारण करना चाहिए।
कर्क- कर्क राशि के लिए भी यह रत्न हितकारी परिणाम देने वाला है,इसे धारण करने से ग्रह एवं स्वास्त्य सम्बन्ध समस्याओ से निजात मिलती है।
सिंह- सिंह राशि के लिये माणिक्य रत्न बहुत ही उत्तम और अनिवार्य माना जाता है,इससे शारीरक और मानसिक संतुलन बना रहता है ,और शत्रुओ पर विजय मिलती है।
कन्या- कन्या राशि के लिए ये रत्न विपरीत परिणाम देने वाला होता है।
तुला- केवल एक निर्धारित दशा में ही धारण करना उत्तम होता है।
वृश्चिक- मंगल इस राशि का स्वामी है,अतः ये रत्न इन राशि के जातको के लिए कल्याणकारी है।
धनु- माणिक्य रत्न इन राशि के जातक के लिए भी हितकारी माना गया है।
मकर-  विपरीत फल देने वाला कहा गया है,अतः इस राशि के लिए ये रत्न अशुभ है।
कुम्भ- माणिक्य धारण करने से भारी हानि की सम्भावना रहती है।
मीन-  केवल सूर्य दशा की स्थिति में धारण योग्य है।

        मोती रत्न का प्रभाव- 

मेष- धन प्राप्ति तथा समृद्धि देने वाला।
वृष- इस राशि के लिए वर्जित रत्न है,पूर्ण हानिकारक।
मिथुन- ज्योतिष परामर्श पर तथा अति विशेष परिस्थितियों में धारण योग्य।
कर्क- अति शुभ और प्रत्यक्ष फल देने वाला, धारण योग्य अनिवार्य रत्न।
सिंह-  इस राशि के लिए शुभ और उत्तम रत्न।
कन्या-धन, यश,और संतान सुख देने वाला है, अतः इस राशि के जातक के लिए धारण योग्य है।
तुला- यश और गौरव की प्राप्ति करने वाला माना गया है।
वृश्चिक- भाग्य उन्नत करने वाला और यश में वृद्धि करने वाला है, अतः धारण योग्य।
धनु-इस राशि के लिए ये रत्न धारण करना  वर्जित है,हानिकारक और अहितकारी है।
मकर- गृह-क्लेश और वाद बढ़ाने वाला,अधारणीय माना गया है।
कुम्भ- धारण योग्य नहीं, धन और यश की हानि करने वाला माना गया है।
मीन- धारण योग्य, यश,धन और विद्या की वृद्धि करने वाला कहा गया है।

       मूँगा रत्न का प्रभाव-
moonga,pics,images


मेष-  धारण योग्य, धन, यश,और गौरव की प्राप्ति करने वाला माना गया है।
वृष-इस राशि के लिए वर्जित रत्न है, पूर्ण हानिकारक और अशुभ है।
मिथुन-  इस राशि के लिए अशुभ और वर्जित रत्न है।
कर्क- धारण योग्य तथा मूँगा और मोती एकसाथ धारण करे तो और भी उत्तम  फल देने वाला है।
सिंह-  धारण योग्य तथा अनिवार्य रत्न, धन, यश,और संतान सुख देने वाला है।
कन्या- बहुत अधिक कष्टकारी और मृत्यु का कारक भी बन सकता है।
तुला- अधारणीय रत्न, स्वास्य्थ एवं दुर्घटना को आमंत्रण देता है।
वृश्चिक- इस राशि के जातक के लिए मूँगा रत्न बहुत ही कल्याणकारी है, आयु और स्वास्थ्य में वृद्धि करने वाला है।
धनु-  धारण योग्य रत्न है, उपयुक्त और मनोवांछित फल देने वाला है।
मकर-  इस रत्न के प्रभाव से वाहन सुख एवं संतान सुख के प्राप्ति होती है।
कुंभ-  इस राशि वालो के लिए मूँगा रत्न धारण करना वर्जित एवं हानिकारक है।
मीन-  इस राशि वालो के लिए मूँगा रत्न पुख़राज के साथ धारण करना यश एवम धन की वृद्धि करने वाला बताया।

      पन्ना रत्न का प्रभाव- 
panna,images,photos


मेष-  इस राशि वालो के लिए  पन्ना रत्न धारण करना वर्जित माना गया है, तथा ग्रहो के बुरे प्रभाव बढ़ाने वाला      कहा गया है।
वृष-  इस राशि वालो के लिए  पन्ना रत्न धारण करना सुख समृद्धि और धन को बढ़ता है।
मिथुन-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना बहुत उत्तम है, तथा शारीरिक-मानसिक सुख प्रदान करने वाला है।
कर्क-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना अति अमंगलकारी है,तथा निश्चय ही अशुभ फल देने वाला  है।
सिंह-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना शुभ और समृद्धि दिलाता है।
कन्या-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना चमत्कारी रूप से बहुत लाभकारी है और यश और कीर्ति बढ़ाने वाला है।
तुला-   इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना उत्तम है और भाग्योदय देता है।
वृश्चिक-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना ज्योतिष परामर्श से तथा बुध की महादशा होने पर ही  ठीक होता है।
धनु-   इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना वर्जित माना गया है।
मकर-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न धारण करना उत्तम और अनिवार्य माना गया है।
कुंभ-  इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न, नीलम या हीरा रत्न के साथ धारण करना ठीक रहता है।
मीन-   इस राशि वालो के लिए पन्ना रत्न बुध की महादशा होने पर ही धारण करना अच्छा होता है।

   पुख़राज रत्न का प्रभाव- 

मेष-  इस राशि वालो के लिए पुख़राज रत्न धारण करना बहुत उत्तम है, तथा शारीरिक-मानसिक सुख प्रदान       करने वाला है।
वृष-   इस राशि वालो के लिए पुख़राज रत्न धारण करना अमंगलकारी है।
मिथुन- इस राशि वालो के लिए पुख़राज रत्न, बृहपति की महादशा होने पर ही धारण किया जा सकता है।
कर्क-   इस राशि वालो के लिए  पुख़राज रत्न धारण करना बहुत उत्तम है, यश और कीर्ति बढ़ाने वाला है।
सिंह-  इस राशि वालो के लिए पुख़राज रत्न धारण करना बहुत कल्याणकारी है।
कन्या-  इस राशि वालो के लिए पुख़राज रत्न धारण करना बहुत वर्जित माना गया, तथा विपरीत परिणाम देता है।
तुला-   इस राशि वालो के लिए रत्न धारण करना बहुत वर्जित माना गया,इससे शत्रु और रोग बढ़ते है।
वृश्चिक-  इस राशि वालो के लिए पुख़राज रत्न धारण करना बहुत कल्याणकारी, और खुशिया बढ़ाने वाला है।
धनु-  इस राशि वालो के लिए पुख़राज उत्तम है,तथा वाहन सुख बढ़ने वाला है।
मकर-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है,शारीरिक कष्ट बढ़ेंगे।
कुंभ-  इस राशि वालो के लिए ज्योतिष परामर्श से ही धारण करे अन्यथा विपरीत परिणाम मिलेंगे।
मीन-   इस राशि वालो के लिए उत्तम और अनिवार्य माना गया है।
       हीरा रत्न का प्रभाव-

मेष-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है,शारीरिक कष्ट बढ़ेंगे।
वृष-  इस राशि वालो के लिए बहुत कल्याणकारी, खुशिया बढ़ाने वाला है।
मिथुन-  इस राशि वालो के लिए उत्तम और अनिवार्य माना गया है,यश और कीर्ति बढ़ाने वाला है।
कर्क-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है, और आयु सम्बंधी परेशानिया देता है।
सिंह-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है, और आयु तथा वाहन सम्बंधी परेशानिया देता है।
कन्या-  इस राशि वालो के लिए कल्याणकारी है, सन्तान सुख की प्राप्ति भी करता है।
तुला-  इस राशि वालो के लिए बहुत कल्याणकारी,और उत्तम कहा गया है।
वृश्चिक-  इस राशि वालो के लिए रत्न धारण करना अमंगलकारी है।
धनु-  इस राशि वालो के लिए ज्योतिष परामर्श से शुक्र महादशा होने पर ही धारण करे अन्यथा विपरीत परिणाम   मिलेंगे।
मकर-  इस राशि वालो के लिए  बहुत कल्याणकारी,और उत्तम कहा गया है।
कुंभ-  इस राशि वालो के लिए  बहुत कल्याणकारी,और उत्तम कहा गया है। धन,एवं वैभव दिलाता है।
मीन-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है,कदापि धारण  नही करे।

       नीलम रत्न का प्रभाव-

मेष-  इस राशि वालो के लिए ज्योतिष परामर्श से शनि की महादशा होने पर ही धारण करे अन्यथा विपरीत   परिणाम मिलेंगे।
वृष-  इस राशि वालो के लिए कल्याणकारी,और उत्तम कहा गया,धन,एवं वैभव दिलाता है।
मिथुन-  इस राशि वालो के लिए ज्योतिष परामर्श से शनि की महादशा होने पर ही धारण करे।
कर्क-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है,कदापि धारण  नही करे।
सिंह-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है,कदापि धारण  नही करे। इससे शत्रु और रोग बढ़ेंगे।
कन्या-  इस राशि वालो के लिए  ज्योतिष परामर्श से शनि की महादशा होने पर ही धारण करे,अन्यथा स्वस्थ्य परेशानिया देगा।
तुला-  इस राशि वालो के लिए कल्याणकारी,राजयोगकारक और उत्तम कहा गया,धन,एवं वैभव दिलाता है।
वृश्चिक-  इस राशि वालो के लिए ज्योतिष परामर्श से शनि की महादशा होने पर ही धारण करे।
धनु-  इस राशि वालो के लिए वर्जित माना गया है,नीलम को कदापि धारण  नही करे।
मकर-  इस राशि वालो के लिए नीलम कल्याणकारी,और उत्तम कहा गया।
कुंभ-  इस राशि वालो के लिए कल्याणकारी,और उत्तम कहा गया, आयु और भाग्य में वृद्धि करता है।
मीन-  इस राशि वालो के लिए  वर्जित माना गया है,कदापि धारण  नही करे।

     राहु एवं केतु का प्रभाव- 

ये एक छाया ग्रह के रूप में माने गए है ,और इन रत्नों को बिना किसी ज्योतिष परामर्श के कदापि धारण नहीं करना चाहिए, अन्यथा दोनों ही कष्टकारी और भयानक फल देते है। 

0 comments:

Post a Comment