Important vastu tips in hindi

, by kiran sharma

महत्वपूर्ण वास्तु-दोष निवारण उपाय-

वास्तु एक ऐसा विज्ञानं है,जिसका मनुष्य के जीवन के साथ प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अटूट  है, और भाग्य को बनाने और बिडगाडने में भी इसका अहम् योगदान है। वैसे तो अनेक प्रकार के वास्तु दोष बताये गए है,पर उनमे भी कुछ बहुत प्रमुख और व्यापक है। तो आइए जानते है ऐसे ही कुछ दोष और  उनके उपायो  के बारे में-
  1. ईशान कोण में टॉयलेटऔर किचन  का होना सबसे बड़ा वास्तु-दोष माना गया है। 
  2. किसी प्लॉट का ईशान स्थित कोना कटा या असमतल होना अभी वास्तु में निषिद्ध माना गया है। 
  3. नेत्रांयन(दक्षिण-पश्चिम) कोने में बोरिग या कुआँ होना भी एक वास्तु-दोष है,इससे पुश्तेनी संपंत्ति पर विपरीत प्रभाव होकर नष्ट हो जाती है। 
  4. घर में फर्श के ढ़लान का पश्चिम या दक्षिण दिशा में होना भी एक विपरीत और हानिकारक  वास्तु-दोष है। 
  5. पूजा-स्थान में पिल्लर का होना ब्रह्म वास्तु-दोष कहा गया है।
 उपाय- 
  •  रसोई-घर हमेशा आग्नेय दिशा में स्थित होना चाहिए।
  • घर की उतर एवं पूर्व दिशाओं में थोड़ा स्थान खाली छोड़ना चाहिए। 
  • घर की  दीवारों पर घडी को उत्तर दिशा या पूर्व दिशा में ही लगाया जाना चाहिए। 
  • ईशान कोण की स्वछता रखनी चाहिए। 

0 comments:

Post a Comment