वशीकरण के अचूक उपाय

, by kiran sharma

वशीकरण टोटके 

किसी मनुष्य को अपनी इच्छानुसार कार्य करवाते रहना,अर्थात वश में कर लेना ही वशीकरण कहलाता है। किन्तु किसी को वश में करने के लिए कुछ टोटके और पूजा-पाठ करने की आवश्यकता होती है। प्रत्येक वशीकरण प्रयोग को करने से पूर्व उसके विधि-विधान और परिणाम को भली भांति जान लेना ही उचित होता है। आइए कुछ उपयोगी वशीकरण तरीको के बारे में जानते है -

  1. अगर किसी स्त्री/महिला को बहुत पसदं करते है, और उसे अपना बनाना चाहते है तो उसके लिए निम्न मन्त्र का श्रद्धा से 551 बार जप करे- " ॐ क्लीं कृष्णाय नमः" और इस मन्त्र का जाप आरम्भ शुक्रवार से करे। इसके पूर्ण होने तक मांसाहार का सेवन नहीं करे और 7 हफ़्तों तक इसे करते रहे।  
  2. अगर आप अपने किसी शत्रु पर विजय पाना चाहते है या उसे वश में करना चाहते है तो निम्न मन्त्र का जाप करे- "ज्ञानी ना मपि चैतनसिं देवी भगवती हिंसां ग्रहा बलादा कृष्णाम मोहाय महामाया परायकस्ति" इस मन्त्र का प्रयोग शनिवार के दिन से माँ काली के पूजन-दर्शन के पश्चात आरम्भ करे, और जिस व्यक्ति को वश में करना है उसका नाम एक हरे स्याही की पेन से २५१ बार सफ़ेद कागज पर लिख ले। 
  3. अगर आप एक से अधिक व्यक्तियों को वश में करना चाहते है तो उपरोक्त मन्त्र का 121 बार जाप करे- " ॐ नमो नारायणाय सर्व लोकानं मम वषयः कुरु कुरु स्वाहाः" किन्तु इस मन्त्र के परिणाम में सफलता की सम्भावना कम  ही होती है, क्योंकि एक से अधिक लोग होते है। 
  4.  किसी स्त्री को वश में करने के लिए निम्न अचूक मन्त्र का जाप करे- " ॐ क्लीं क्लूम मम (स्त्री का नाम) वषयं कुरुं भवन्ति स्वाहाः" इस मन्त्र का जाप केवल शुक्रवार को आरम्भ करे और कम से कम ११ शुक्रवार तक करे और मन्त्र जाप करते समय इच्छित स्त्री की तस्वीर लेकर उसे वामावर्त दिशा में घुमाते रहे। 
     
  5. 16 सोमवार के व्रत और भगवान शिव की आरधना करने से भी इच्छित वर/वधु की प्राप्ति होती है। 
  6. विवाह में देरी होने का एक कारण मंगल का दोष भी होता है। 
  7. इच्छित विवाह के लिए शुक्ल पक्ष में प्राण-प्रतिष्ठित गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करे। 
  8. किसी भी वशीकरण मन्त्र का उपयोग करते समय ये स्मरण रखे की मन्त्र का उपयोग किसी को हानि पहुचाने के उद्देश्य से न किया जाए अन्यथा इसके विपरीत परिणाम ही होते है और शक्तियां अपना दुरूपयोग करने वाले को ही हानि पहुचाने लगती है। 
         

0 comments:

Post a Comment