विवाह के लिए वास्तु टिप्स

, by kiran sharma

विवाह के लिए वास्तु टिप्स 


 

1. विवाह बंधन:-आजकल लोग अपने कॅरियर और वित्तीय स्तर को लेकर ज्यादा सचेत हो गए हैं, इसलिए विवाह करने की योग्य उम्र निरंतर बढ़ती जा रही है। पहले जहां लोग 18-21 साल के बीच विवाह बंधन में बंध जाते थे वहीं अब इस उम्र में लोग अपने कॅरियर के विषय में सोचते हैं।

2. युवा पीढ़ी:-लड़का हो या लड़की, कॅरियर आज की युवा पीढ़ी की प्रमुखता में शामिल हो गया है। माता-पिता भी इस बात को अच्छी तरह समझते हैं इसलिए उन पर शादी करने का दबाव डालना उचित नहीं समझते।

3. विवाह की उम्र:-परंतु जब माता-पिता को लगने लगता है कि उनकी संतान की विवाह की उम्र निकलती जा रही है तो लड़का हो या लड़की, उन्हें विवाह करने के लिए किसी तरह राजी कर ही लेते हैं। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि लाख कोशिश करने के बाद भी उन्हें अपनी संतान के लिए जीवनसाथी नहीं मिल पाता।

 4. वास्तुशास्त्र:-धीरे-धीरे कर संबंधित व्यक्ति और उसके अभिभावक अपनी अपेक्षाएं कम करते रहते हैं लेकिन फिर भी शादी में देरी होती ही रहती है। बहुत से लोग इसे सामान्य घटनाक्रम समझ लेते हैं लेकिन भले ही आपको यकीन ना हो लेकिन इसका रिश्ता भी वास्तुशास्त्र से ही जुड़ा है। 

5. वस्तुएं और दिशाएं:-ये बात तो हम सभी जानते हैं कि वास्तुशास्त्र एक ऐसा विज्ञान है जिसका आधार वस्तुएं और दिशाएं हैं। वस्तुओं और दिशाओं से उत्पन्न ऊर्जा ही वास्तुशास्त्र की मूल है।

 6 . जीवनसाथी की तलाश:-आज हम आपको बताएंगे कि अगर आपकी उम्र विवाह योग्य हो गई है और विवाह के लिए अपने जीवनसाथी की तलाश कर रहे हैं तो वास्तुशास्त्र के अनुसार आपको उन बातों का ध्यान रखना चाहिए, जो अगली स्लाइड्स में आने वाली हैं। एक बात और, ये आर्टिकल केवल लड़कों को ही ध्यान में रखकर लिखी जा रही है।

0 comments:

Post a Comment