वास्तु दोष

, by kiran sharma

वास्तु दोष 

वास्तु शास्त्र में अनेक तरह के दोष बताये गए है लेकिन उनमे से कुछ दोषों को ज्यादा महत्व दिया गयाहै.जिनके कारण घर में रहने वाले लोगों को बहुत ज्यादा तकलीफों का सामना करना पड़ता है आइये जानते उसमे  से 5 मुख्य दोषा कोण से जो घर में होने पर सबसे ज्यादा परशानी देते है


1. नार्थ-ईस्ट (ईशान) -

 इस कोने में टॉयलेट का होना सबसे बड़ा वास्तु दोष होता है, इसके अलावा रसोईघर भी ईशान कोण में होना गलत माना जाता है.इस दिशा में टॉयलेट होने से आमदनी में काफी प्रोब्लेम्स आती है जबकि किचन होने से आमदनी तो ठीक रहती है लेकिन स्वस्थ ख़राब या हार्मोन में कमीं आ जाती है 




 2. कटा हुआ प्लाट - 

अगर किसी प्लाट का ईशान या नैऋत्य कोना कटा  हुआ है तो  ऐसे प्लाट प तो घर बनाना भी वास्तु में गलत माना गया हे
ऐसे प्लाट में financial problems बढ़ते है 


 

3  साउथ-वेस्ट (नैऋत्य ) - 

 इस कोने में बोरिंग या कुआँ होना वास्तु में बड़ा दोष समझा जाता है. इसके अलावा इसी दिशा से घर का मुख्या द्वार होना वास्तु में पूरी तरह वर्जित है। इस दिशा में boring होने से पुश्तैनी सम्पति समाप्त हो जाती है उसके बाद आपका जोड़ा हुआ धन खत्म हने लगता है. किसी सदस्य को बुरी लत लग सकती है. 




4 ढलान - 


 घर में फर्श का व् पानी का ढलान दक्षिण या पश्चिम की ओर होना वास्तु में दोष माना जाता है. घर में बुरा समय पीछा नही छोड़ता 



5 ब्रह्मस्थान -

  इस कोने में कमरा या कोई पिल्लर होना वास्तु में ब्रह्मदोष से जाना जाता है. इस कोने के खराब होने से घर में positive energy का circulation रुक जाता है चाहे आपका ईशान व् नैऋत्य कोण कितना अच्छा हो कोई फायदा नही होगा 



0 comments:

Post a Comment